अक्सर

अक्सर बातों ही बातों ने कुछ बातें बिगाड़ दी 

तो अक्सर दोनों के बीच की खामोशियों ने बातें संवार दी


अक्सर ख्यालों में आने वाले हकीकत हो गए

तो अक्सर हकीकत में रहने वाले आँखों से ओझल हो गए


अक्सर बुलंदियों की चाह में रिश्तों की कीमत खो दी मैंने 

तो अक्सर रिश्तों  की आड़ में बुलंदियाँ हासिल कर ली मैंने 


अक्सर दिल में आयी बात होंठों पर नहीं आ पाती 

तो अक्सर होंठों पर आयी बातें दिल को चुभ जाती 


अक्सर जीती हुई बाजी हाथों से खोयी है

तो अक्सर अपनी हार से उनकी खुशियाँ पिरोयी हैं 


अक्सर खूबसूरती ने उनकी हमें ख़ाक कर दिया 

तो अक्सर चाहत ने उनकी हमें बेबाक कर दिया

-SumitOfficial 


Copyright © 2015-2016 by SumitOfficial

All rights reserved.

Advertisements

Published by: SumitOfficial

Hi, I this is SumitOfficial. Age 21 Writer | Blogger | Video Jockey | Orator | Singer | Painter | Sketcher | Interviewer | Artist | MBA. A normal person but a unique & powerful soul. I am someone who has explored his life through the biggest challenges in very little age, faced those periods which I scared if dreaming about today. I'm a learnt soul. Welcome to my blogosphere - SumitOfficial. This blog is a memoir of my life and experiences. you might or might not find so many interesting factors as you can get in other bloggers' posts. but I'm sure of one thing that with my posts you'll be able to relate it with your own life. You'll find the value of life, people, relationships, love - how it works, learnings for a better future. So if you wanna get notified with all these factors, just click on the follow button and do subscribe. I'll surely do the same for yours. Thanks! -SumitOfficial

Categories Fiction, life, love, Micro Poem, relationship, SumitOfficial, SumitOfficial QuotesTags, , 66 Comments

66 thoughts on “अक्सर”

    1. Hi Krati,

      कुछ कहानिया बस बातो-बातो में ही बन जाती हैं, इस छोटी सी कविता की ही तरह 🙂

      but I promise you will see more such piece of writings from my side if you really like them 🙂

      Liked by 1 person

    1. That is true Prashan, Hindi poetries are awesome too. It will force you to think beyond the limits. 🙂

      बाते ही हैं जो बाते बनाती हैं या बिगाड़ती हैं, और रिश्ते सँभालने वाली ही यह बाते हैं
      दरारे तो तब आती हैं जब रिश्तो में बाते खो जाती हैं

      Liked by 1 person

      1. Bahut khoob…well said!! Apni bhasha ki baat hi kuch aur hoti hai. Though i am not well verse with hindi poetry but written some pieces do check it 🙂

        Like

  1. अक्सर इस दिल की लापरवाही ने हमें उऩ से दूर कर दिया
    तो अक्सर  इस दिल की बे इंतिहा चाहत ने हमें अनसे मिला दिया 

    Sumit Sumit Sumit!!!!! I have nothing to say. You have stolen all words of appreciation from my side. But still I’d love to say.. You are a well-skilled and intense writer. You excel at English, Urdu , hindi writing. Your writings are eclectic. ✌👌👌👍💖
    I’m in awe with your writings.

    God bless you baby. ☺😊

    Liked by 4 people

    1. अक्सर चाहत की भूख ने उन्हें चाहत से दूर कर दिया
      तो अक्सर प्यार के समंदर ने दोनों को एक दूसरे की ओर कर दिया

      Hahah! Itni sari taarife, Oh my God! Itki koi jaroorat nahi hain shreyu :*

      मेरी हिंदी में दिलचस्पी हमेशा से रही हैं, या फिर यह कहना सही होगा की मुझे उन साडी भाषाओ में लिखने का शौक हैं जो मेने आज तक सीख कर कमाई हैं 🙂

      आने वाले वक़्त में (હું ગુજરાતી માં પણ લખવાનું વિચારું છુ, કારણ કે મારા મન માં કઈ છે જે હૂં લખવું ચાહું છુ) I’ll be writing in Gujarati too, don’t worry you will be explaining you everything. 🙂

      Like

  2. Nice post
    मुख्तसर टुकड़ों में अक्सर मिला मुझे चेहरा परेशानियॉ बदल बदल कर
    छोटी छोटी खुशियॉ उखाड़ फैंकी खरपतवार समझकर।

    मुख्तसर short , brief
    खरपतवार unwanted plants . सही मायनो मे वो कोइ भी फूल, झाड़ियॉ जो फसल के
    अलावा होती है उसे किसान उखाड़ फेंकता है।

    Liked by 4 people

  3. अक्सर बयाँ नहीं होते मेरे खयालात मेरे अलफ़ाज से,
    ताे अक्सर मेरे अलफ़ाज मेरे खयालाताें मे ही दफन हाे जाते हैं।

    Appreciation is already sended 😂😊

    Liked by 2 people

    1. अक्सर मोहब्बत बयां करना मेरी जबान को कभी आया नहीं
      तो अक्सर मेरी खामोशियो को समझना उन्हें कभी आया नहीं

      Liked by 1 person

      1. अक्सर उनसे गुफ्तगू यू ही रुक जाती है मेरी,
        तो अक्सर यू ही रातें बित जाती है उनसे गुफ्तगू करते हुए।

        Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s