बिस्तर।

Copyright© 2015-2017 by SumitOfficial

All Rights Reserved. 

Advertisements

36 thoughts on “बिस्तर।”

  1. क्यों इंतजार करु तेरे कांधे के सिरहाने का
    जब मेरी सांसों में छुपी सिसकियों से तेरी निंद न खुली हो।
    वक्त ने तेरे साथ ही करवट फेर ली मुझसे
    बिस्तर की गर्मी और दिलों की नरमी जैसे तन्हाई के आसुओं से धुली हो।

    Liked by 1 person

  2. जब दिल हो खुला और जज्बात ए उचाई हो चरम,
    एक जिस्म कड़ा और दूजा हो नरम,
    आंखों में तेज और मन में कामुक तरंग ,
    शर्म हो जाए गायब और बिस्तर हो जाए गरम।
    Sumit($)

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s